शीशा

1
710

 

 

अजें शीशा मिरा खबरै
मिगी गै ओपरा चेतै
क में सदिएं गुआचे दा
अजें आपा तपाशा नां।
मिरे गै नैन बलगा दे
अजें मेरे दिदारै गी
अजें नेईं सांबेआ अश्कै
में चेतें दे खलारै गी।

अजें नेंईं नैन भांडा छलकेआ
हिरखै दी गरमी नें
अजें मत्थै त्रेली भाखनी
बाकी ही सल्लें दी ।
अजें हिरदे दी गागर
सक्खनी पीड़ें दी मस्ती शा
अजें में दूर खासा हाँ
मिरी पन्छान बस्ती शा।

अजें पैंडे बी सुत्ते दे
अजें मनजल बी जागी नेईं
नां अगड़ी बत्त गै सरकी
नां अगड़ा पैर में पाया।
मने दे गास उडदी हीखियें
दे फँग केह् तोलां
अजें अपना गै परछामां
मिगी नेंईं जोखना आया।

अजें छप्पर निं पाया में
दना मज़बूत ताँह्गें दा ,
अजें गारे च पैदा छड़कदा
अरमान बाकी ऐ।
अजें बरगे गिना नां में
अजें गांडे घतेरां नां
मिरे सुखनें दी कोठी दा
अजें निर्माण बाक़ी ऐ।

अजें बंजर दमागै दे गै
में ब ‘रके फ़रोलां नां
अजें सोचें दी सीरें चा
मनै दे गीत नेईं कुरजे।
अजें में शे$र ग़ज़लें दे
मसां पटें’र फ़ेरा नां
अजें कविता दी गोदा , में
निरे अक्खर कठेरां नां।

”बगान्ना ” हादसें दी तूं
दनां पर खोल हां पोथी
बक़ाया हौसले किज
जोखनें , अन-थक्क काह्नी दे
अजें हत्थें ‘रा लीकर म्हेसनी
मौती दी बाक़ी ऐ
अजें मत्थै ‘र पाने औकरे
में जिंदगानी दे।

English translation is available here

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here