रात दी रानी

0
871

राती दी बुक्कली च सुत्ती दी कञका दी अक्ख खु’ल्ली

कच्छ-कोल अश्कें कुतै अतरै दी शीशी डु’ल्ली ।

कञका ने माऊ गी पुच्छेआ—-

मां ,एह् केह् झुल्लेआ जे रात उट्ठी मैह्‌की ।

मां बोल्ली , बड़ी सरगोशी नै भेतली गल्ल खोह्‌ल्ली

रात रोज मैह्‌कदी ऐ ,मेरिये धिये,तदूं थमां जदूं

राती दी रानी ते रजनीगंधा ने मठोंदी खश्बो गी डक्की रक्खना चाहेआ

उसी छपैलने खातर सोह्‌ल,

कुंगली  कलियें ओठ ले मीटी, साह् लेआ हा घोटी ।

पर दिन घरोंदे तगर दम लगा घटोन ,जिंद लगी छरोन ,

तां लज्ज गेई ही भुल्ली , मूंह् गेआ खुऱल्ली,

ओठ पे खिड़ी ते खश्बो गेई डुऱल्ली ।

ब्हाऊ ने झट्ट दित्ती खलारी ते रात उट्ठी ही मैह्‌की ।

अदूं  थमां रात रोज मैह्‌कदी ऐ, रोज मैह्‌कग, मैह्‌कदी रौह्‌ग तदूं तगर

जदूं तगर रात दी रानी ते रजनीगंधा रौह्‌ङन ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here