सलक्खनी घड़ी

1
1958

में इक बारी कुंभ न्हौन गेदे,

अपनी सुर्ती च पेदे,

शब्दें मूजब,

जे गंगा गेदे तज्जनी होंदी ऐ

कोई सभनें शा प्यारी चीज़, म्हेशा-म्हेशा ताईं

ते में तज्जी आई ही अपनियें अक्खियें दा नीर।

मेरियें अक्खियें दा नीर गंगा-जलै नै इक-मिक होई

घुली ,रली गेदा ऐ सागरै दे अथाह् पानियै च ,

हून दूर, मेरियें अक्खियें शा अति दूर ।

हून नेईं छलकदे मेरियें अक्खियें दे कटोरे

तेरा दीदार होने पर बी

ते नां गै कुसै चेते पर बगदियां न एह् ।

में खुश आं अपनियें अक्खियें दे पानी गी तज्जी,

उसी दूर सागरै गी भेजी ।

में खुश आं ते नत-मस्तक आं

चौबियें घैंटें दी उस सलक्खनी घड़ी  अग्गें

जिस च इक अनहोनी होनी होई गेई ही

ते में अपनियें अक्खियें दे पानी दी जिम्मेवारी शा बरी होई गेई ही ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here