गज़ल

2
1778

उड्डने दी तांह्‌ग रेही मनै दे बोआल बी,

हौसलें दे फंघ भन्ने घरें दियें तंग्गियैं ।

 

तांह्‌गां कदैं मनै  दियां होइयां गै  निं पूरियां,

धोना केह् हा, रेड़ना, सकाना केह् हा नंग्गियैं ।

 

ढोई-ढोई जिंदगी दा भार गंजे होए आं,

बाह्‌ना केह् हा पुट्टने हे बाल कोह्‌दे कंघियैं ।

 

मौत अहैं जिंदगी दी आखरी पड़ांऽ ऐ,

छोड़ी जाना साथ तेरा सज्जनै संबंधियैं ।

 

इक बारी पैर किल्लै बेधने जरूर न,

घस्सने शा रोज फ्ही बचाने न चमंदियैं ।

 

‘दर्दियाऱ तेरी कुऱन्न सुननी सनानी ऐ,

उंऱदियां सनोंदियां जो नैंह् दिंदे संघियैं ।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here