ग़ज़ल‏

0
814

 

 

करूँ हीला मने तेरे दियां
अस बी मना करचै !
एह मारू कारखाने फ्ही
मुड़ी जीन्दे गरां करचै !

उठी आया ऐ सूरज होर
नेड़ै सैन्स आखा दी
चलो सुखने दे फन्गेँ  कूलियेँ
रीझें गी छाँ करचै !

गलान्दे आरदे जरमें  शा ए
घोडे  गी घोरा गे
चलो इन तोत्ली जीभें ने किश
अस गे नयाँ करचै !

मते जरमें शा कुट्टी जा ‘रने अस
लीकरां ऊ’ऐ,
पुराना छोड़चै तां फ्ही कुते अस
बी नमां करचै !

घडी पुच्छो ते सेइ धरती
भला मुल्लाँ ते पन्न्तें गी
सुना किन्नीँ तुआँ करचै
ते फी किन्नी क तां करचै !

मना कुन रोकी सकदा बाग sahde
फुल खिड़ने शा
जे अक्खें चार फुन्गाँ अस
कुते पूरा चनाँ करचै

“बगान्ना” किश करी गुज़रो
मज़ा adya तदुँ औन्दा
जदुँ घड़चै नमाँ  घड़चै
जदुँ करचै मसां करचै !

बसोना केह् मड़ो जेकर
घरे दे घर बसोआ ने।
बसोना गै जरो जेकर
कुसै बत्ता बसां करचै।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here