मौसम

0
20

रंग बरंगे सूखने भरिये,नैनें अंदर
दिंदा रौंदा रोज़ मना गी धोखा मौसम
जेहका मेरे हिस्से अशकै आना गै नेईं
में खबरै की बळगी जा नां ओहका मौसम।

जिन रस्तें पर मौसम सदियें बरदे गै नेईं,
जीवन पैंडे ओ रस्ते बी गाहने पौंदे।
कुन आखा दा मौसम आप मुहारे उगदे,
मौसम अडिया पोटें गुड्डी राहने पौंदे।
बिन राहे तू सौखे मौसम तुप्पा करने
राहियै बी केंईं बारी उगदा ओखा मौसम।
जेहका मेरे हिस्से अशकै आना गै नेईं
में खबरै की बळगी जा नां ओहका मौसम।

नां बागें, नां मैहलें, नां गै गुरु दुआरें,
नां मस्जिद नां गिरजा घर नां मंदर मौसम।
नां गलियें नां बस्ती नां गै चौकें फुरना,
फुरना जद बीबी फुरना तेरे अंदर मौसम
इस मौसम दा सुरमा जेकर अक्खीं पेई जा,
फिह् बाहरे दा हर मौसम गै लौहका मौसम।
जेहका मेरे हिस्से अशकै आना गै नेईं
में खबरै की बळगी जा नां ओहका मौसम।

जीवन बागे रौंसें भरेआ बैतल मौसम
भोरें आंगर फुल्लें उप्पर फिरदा दिक्खां।
मौसम दी जे अकख मेरी पंछानूं होई जा,
तितली दे फंगें चा मौसम किरदा दिक्खां।
सुद्दे मौके मौसम दिंदा मरने गितै ,
पर जीने लेई दिंदा इक्कै मौका मौसम।
जेहका मेरे हिस्से अशकै आना गै नेईं
में खबरै की बळगी जा नां ओहका मौसम।

मौसम इक्क समुन्दर नेईं ऐ होना अडिया,
मौसम फुंगें फुंगें आखो बरदे रोहना।
इस्स फराटी जे कर में नेईं मौसम होया,
फिह् खबरै में किस्स फराटी मौसम होना।
जे होया बी मौसम में तां मौसम नातै,
तुस आखी सकदे ओ होया कोहका मौसम।
जेहका मेरे हिस्से अशकै आना गै नेईं
में खबरै की बळगी जा नां ओहका मौसम।

तू रिश्तें दी पोथी उप्पर कालख पोची,
कुस मौसम दे काले पाड़े सिक्खदा रौनै?
रोज़ “बगान्ना” पछी पछी सैले बूहटे
तू मौसम दी अस्मत लुटदे दिक्खदा रौनै?
मौसम ओ जो गासै दा बी सीना चीरे,
कित लाना में तेरा अडिया फोका मौसम।
जेहका मेरे हिस्से अशकै आना गै नेईं
में खबरै की बळगी जा नां ओहका मौसम।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here