ग़ज़ल

0
12

मिरे शबदें गी जीभा पर कचोली जारदा कुन हा।
बिना दंदें बिना होठें एह् बोली जारदा कुन हा।

मिरे साहैं च इन्ना जैहर घोली जारदा कुन हा।
हवा दे हर फनाके मौत झोली जारदा कुन हा।

मिरे कन्ने च डाहडे रौंसले जन गीत बज्जा दे,
मिरी भाषा गी होठें पर गरोली जारदा कुन हा।

मिगी हर सूरता अंदर मिरा सज्जन गै लब्भा दा,
मिरी अक्खीं चा जोकी मैल गोली जारदा कुन हा।

कलेजा चीरने आला अजें खंजर घड़ा दा ओह,
मगर फिह् बी कलेजै पच्छ तोली जारदा कुन हा।

मिरे सतीं मिरे गै राज़ खुल्ली जारदे जोके,
मिरे अंतस सबूरै गी फरोली जारदा कुन हा।

“बगान्ना” पुच्छ साकी गी मिगी इन्नी ते पारत पा,
भरी जा दा हा में प्याले प ढोली जारदा कुन हा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here